Nil n Nilu Forum

Online community with resources and discussions on movies, games, technology, softwares, and more
 
HomeGalleryLog inRegister

Share
 

 ***जो प्यार करता हैं वो ही आहे भरता हैं***

Go down 
AuthorMessage
KISHAN JOSHI
Member
Member


Male
Number of posts : 3
Age : 34
I live in : Patan(North Gujarat)
Job/hobbies : Kudrati nzare hon vo dekhna hume bahut achha lagta hai
Humor : i like read write shayri.....
Warning :
***जो प्यार करता हैं वो ही आहे भरता हैं*** Left_bar_bleue0 / 1000 / 100***जो प्यार करता हैं वो ही आहे भरता हैं*** Right_bar_bleue

Donate : <form action="https://www.paypal.com/cgi-bin/webscr" method="post"><input type="hidden" name="cmd" value="_s-xclick"><input type="hidden" name="hosted_button_id" value="1336398"><input type="image" src="https://www.paypal.com/en_US/i/btn/btn_donateCC_LG_global.gif" border="0" name="submit" alt=""><img alt="" border="0" src="https://www.paypal.com/en_US/i/scr/pixel.gif" width="1" height="1"></form>
Registration date : 2012-03-09

***जो प्यार करता हैं वो ही आहे भरता हैं*** Empty
PostSubject: ***जो प्यार करता हैं वो ही आहे भरता हैं***   ***जो प्यार करता हैं वो ही आहे भरता हैं*** Empty2012-03-09, 20:27

मेरी आँखे भी कितने गुनाह करती हैं,
मेरी होकर भी उन्हीं के ख्वाब देखती हैं,

मेरी साँसे भी कितने गुनाह करती हैं,
मेरी होकर भी उन्हीं के लिए धडकती हैं,

मेरी बाहें भी कितने गुनाह करती हैं,
मेरी होकर भी उन्हीं को पाना चाहती हैं,

मेरे गम भी कितने गुनाह करते हैं,
मेरे अपने होकर भी मुझे ही जलाते हैं,

मेरी यादें भी कितने गुनाह करती हैं,
मेरी होकर भी उसकी याद दे जाती हैं,

मेरा दिल भी कितना गुनाह करता हैं,
मेरा होकर भी उसे दिल मैं बिठाता हैं,

मेरा मन भी कितना पागल बनता हैं,
मेरा नहीं जो उसे पाना चाहता हैं,

मेरा तन भी कितना पागल बनता हैं,
जो प्यार की भीख उन्हीं से माँगता हैं,

ये मेरे खुदा तू भी कितना ज़ालिम बनता हैं,
जो प्यार करता हैं वो ही आहे भरता हैं……..!!!!!!!

“किशन”
Back to top Go down
http://p4poetry.com/author/kishan/
 
***जो प्यार करता हैं वो ही आहे भरता हैं***
Back to top 
Page 1 of 1

Permissions in this forum:You cannot reply to topics in this forum
Nil n Nilu Forum :: Shayari :: Dard-e-dil Shayari-
Jump to: